प्रकाश जावड़ेकर ने कांग्रेस पर बोला हमला, कहा- क्या पार्टी घोषणापत्र में बताएगी 370 हटाना गलत


 Satyakam News | 17/10/2020 10:15 PM


पटना। बिहार विधानसभा चुनाव को लेकर मतदान की तारीख पास आ जा रही पार्टियों के एक दूसरे पर हमले भी और तेज होते जा रहे हैं। केन्द्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर कांग्रेस पर यह कहते हुए निशाना साधा है कि जब उनके वरिष्ठ नेता पी. चिदंबरम और दिग्विजय सिंह कह रहे हैं कि कश्मीर में अनुच्छेद 370 को खत्म करने का फैसला गलत है तो क्या कांग्रेस ये बिहार चुनाव में घोषणा पत्र में शामिल करेगी।

प्रकाश जावड़ेकर ने आगे कहा, कांग्रेस को यह मालूम है कि अनुच्छेद 370 को खत्म करने के फैसले का पूरे देश ने स्वागत किया है। जो थोड़े अलगाववादी हैं उनके सुर में सुर मिलाकर कांग्रेस बोल रही है। केन्द्रीय मंत्री ने कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी पर भी निशाना साधते हुए हमला किया। उन्होंने कहा- राहुल गांधी भी पाकिस्तान की प्रशंसा करते हैं, किसी भी विषय पर पाकिस्तान की प्रशंसा करना, चीन की प्रशंसा करना इनको अच्छा लगता है।

गौरतलब है कि इससे पहले प्रकाश जावड़ेकर ने पराली पर यह बयान दिया था कि राजधानी के प्रदूषण में उसका योगदान केवल 4 फीसदी है। लेकिन, विवाद तूल पकड़ने के बाद जावड़ेकर को इस पर सफाई देनी पड़ी थी।

इसके बाद जावड़ेकर ने सफाई देते हुए कहा कि दरअसल उनके कहने का मतलब था कि पराली का चार फीसदी प्रदूणष इस हफ्ते का है। जावड़ेकर ने कहा, पराली का चार फीसदी प्रदूषण इस सप्ताह का है। दिल्ली के प्रदूषण में पराली की हिस्सेदारी चालीस फीसदी तक है।

इससे पहले, जावड़ेकर ने कहा था कि सर्दियों के मौसम में दिल्ली में हमेशा प्रदूषण की समस्या गंभीर हो जाती है। इसमें हिमालय की ठंडी हवा, गंगा के मैदानों में बनने वाली नमी, हवा की धीमी रफ्तार, स्थानीय स्तर पर निर्माण कार्य के दौरान बनने वाली धूल, सड़क किनारे की धूल, वाहनों से निकलने वाला धुआं, लोगों द्वारा खुले में कूड़ा जलाया जाना, आसपास के राज्यों में किसानों द्वारा पराली जलाया जाना आदि कई कारक हैं।

उन्होंने कहा कि आज दिल्ली के प्रदूषण में पराली का योगदान मात्र चार प्रतिशत है। शेष 96 फीसदी प्रदूषण स्थानीय कारकों की वजह से है। हालांकि इसके बावजूद उन्होंने पराली जलाने की घटनाओं को रोकने को लेकर पंजाब की कांग्रेस सरकार को कड़े शब्दों में हिदायत दी। उन्होंने कहा कि पंजाब सरकार को ध्यान देना चाहिये कि वहां पराली ज्यादा न जले। पंजाब सरकार तुरंत हरकत में आये ताकि पराली कम जले। 

Follow Us