मप्र : न्याय के लिए तरसती जनता, जनवरी 2021 तक इतने केस लंबित


 Satyakam News | 31/03/2021 10:08 PM


जबलपुर। मध्य प्रदेश हाई कोर्ट में 3 लाख 87 हजार 102 मामले लंबित है। यह पूरी जानकारी आरटीआई कार्यकर्त्ता विवेक पांडेय ने मध्य प्रदेश हाई कोर्ट की मुख्यपीठ जबलपुर और खंडपीठ इंदौर व ग्वालियर में लंबित मामलों के आंकड़े निकाले है। बता दें कि जिसमें हजारों केस 15-20 साल से लंबित है लगता है इनकी सुनवाई करने वाला कोई नही है ? फ़ास्ट ट्रैक कोर्ट बस एक जुलमा बनके रहा गया है। आखिर इसका दोषी कौन ?? 

यही वजह है कि पुराने मामले निराकृत नहीं हो पाते और नए मामले दायर हो जाते हैं। साथ ही वकीलों के द्वारा मामले की तारीख बढ़ाने की प्रथा कब खत्म होगी। इसके लिए जिस दिन केस लगे, उसके 2 -3 सुनवाई में मामले का निपटारा किया जाए। इसके अलावा यह भी देखना होगा कि लोग इतनी बड़ी संख्या में कोर्ट में क्यों जा रहे हैं। सरकार को चाहिए कि वे अपने सिस्टम की खामी भी सुधारे, जिससे लोगों को छोटी-छोटी बातों में कोर्ट की शरण न लेना पड़े।

सिविल और क्रिमिनल मामले इस तरह लंबित : जनवरी, 2021 के अंत में लंबित सिविल मामलों की संख्या 2 लाख 39 हजार 579 थी। जबकि क्रिमिनल मामलों की संख्या 1 लाख 47 हजार 523 रही। 

सिविल लंबित केस : 20 साल से पहले 714 केस, 15 साल से पहले 5439, 5 साल से पहले 15762
   
क्रिमिनल लंबित केस : 20 साल से पहले 1525 केस, 15 साल से पहले 3281, 5 साल से पहले 10285

मार्च, 2020 से कोविड के खतरे के कारण हाई कोर्ट का कामकाज महज सीमित सुनवाई के जरिये हुआ। वीडियो कॉफ्रेंसिंग से महत्वपूर्ण मामले सुने गए। जबकि पुराने मामले बहुत कम सुनवाई में आए।

Follow Us