मप्र : महाराष्ट्र से सटे जिलों में आवाजाही करने वालों का होगा RT-PCR टेस्ट


 Satyakam News | 22/02/2021 10:19 PM


भोपाल। कोरोना के मामले तेजी से बढ़ने के बाद मध्य प्रदेश सरकार को पुराना निर्देश फिर याद आ गया है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सोमवार को भोपाल में कोरोना पर समीक्षा बैठक की। उन्होंने कहा कि लगातार सतर्कता बरतना जरूरी है। इसके बाद प्रदेश में फिर से मास्क पहनना अनिवार्य कर दिया गया है। देर शाम इसके निर्देश भी जारी हो गए।

मास्क पहनने का निर्देश पुराना ही है, पर अधिकारियों की लापरवाही के चलते इसे सही तरीके से लागू नहीं किया जा रहा। राज्य में बीते 24 घंटे में कोरोना के 294 केस सामने आए हैं। इनमें 61% मरीज तो इंदौर (104 पॉजिटिव) और भोपाल (76 पॉजिटिव) में ही मिले हैं। इसके बाद सरकार ने फिर सख्ती की बात कही है।

मध्य प्रदेश में अभी 2104 एक्टिव मरीज हैं। इनमें इंदौर में 660 और भोपाल में 495 एक्टिव मरीज हैं। प्रदेश में अब तक 3854 लोगों की मौत कोरोना की वजह से हुई है। 24 घंटे में केस तो तेजी से आए हैं, पर मौत एक भी नहीं हुई है। राहत की बात यह है कि भिंड, छतरपुर, धार, मंदसौर, निवाड़ी और मुरैना में एक भी कोरोना मरीज नहीं है।

महाराष्ट्र के अमरावती में एक हफ्ते का लॉकडाउन और कई जिलों में नाइट कर्फ्यू लगाए जाने के बाद मध्य प्रदेश में भी लॉकडाउन लगने की चर्चा शुरू हो गई थी। कुछ पुराने सरकारी निर्देश भी सोशल मीडिया पर जारी किए जा रहे थे। हालांकि स्वास्थ्य मंत्री प्रभुराम चौधरी ने लॉकडाउन और नाइट कर्फ्यू की बात को नकार दिया था।

Follow Us