विवो को क्यों वापस मिली स्पाॅन्सरशिप, जानें वजह


 Satyakam News | 19/02/2021 8:39 PM


नई दिल्ली। पूर्वी लद्दाख में हिंसात्मक झड़पों के बाद भारत-चीन सीमा पर तनाव को देखते हुए पिछले साल विवो प्रायोजन निलंबित कर दिया गया था, जिसके बाद ड्रीम इलेवन को एक साल के लिए आईपीएल का टाइटल स्पाॅन्सर बनाया गया था। इस साल भी नए टाइटल स्पाॅन्सर की तलाश की जा रही थी। लेकिन जीतने पैसे का ऑफर वीवो को मिल रहा है, उससे कंपनी संतुष्ट नहीं है। ऐसे में नए सीजन में एक बार आईपीएल की टाइटल स्पाॅन्सर वीवो के पास ही रहने की संभावना है। 

बीसीसीआई सूत्र ने बताया, 'जो ऑफर ड्रीम 11 और अनएकेडमी की तरफ से विवो को दिए जा रहे हैं, उससे वीवो खुश नहीं है। इसलिए इस साल आईपीएल का टाइटल स्पाॅन्सर उन्होंने अपने पास ही रखने का फैसला किया है।' लद्दाख में हुए झड़प के बाद ड्रीम 11 ने 222 करोड़ रुपये में एक साल के लिए टाइटल स्पाॅन्सर खरीदा था। पिछले साल चीनी सैनिकों के साथ हिंसक झड़प में 20 भारतीय सैनिक शहीद हो गए थे। जिसके बाद से ही दोनों देशों के सम्बन्धों में काफी तनाव बना हुआ है। 

वीवो ने 2018 से 2022 तक 5 साल के टाइटल स्पाॅन्सर के लिए बीसीसीआई को 2190 करोड़ रुपये का भुगतान किया था। विवो से मिलने वाले पैसे में सभी फ्रेंचाइजी को 27.5 करोड़ का भुगतान बीसीसीआई के तरफ से किया जाता है। 2023 में बीसीसीआई टाइटल स्पाॅन्सर के लिए नए सिरे से नीलामी कर सकता है। 

Follow Us