आरटीआई से हुआ खुलासा, 11 जनवरी को ही भारत सरकार को मिल गई थी कोरोना वायरस की खबर


 Satyakam News | 18/11/2020 11:41 AM


वर्तमान समय मे कोरोना के प्रकोप से हर कोई अवगत है, वर्तमान इस्थिति में भारत मे अब तक 89,12,907 लोग कोरोना की चपेट में आयें है वहीं 1,30,993 लोगों ने कोरोना के कारण अपनी जान गवा चुके है। वही मध्यप्रदेश में 1,83,927 से ज्यादा लोग कोरोना की चपेट में आये हैं। रीवा मध्यप्रदेश के आरटीआई एक्टिविस्ट विवके पांडेय के द्वारा दायर की गई आरटीआई में चौकाने वाले आंकड़े सामने आये। विवेक ने अपनी आरटीआई हेल्थ मिनिस्ट्री को दायर की थी जिसे बाद में रोग नियंत्रण का राष्ट्रीय केंद्र को भेजा गया।

आरटीआई में 3 सूचनाएं मांगी गई थी पहले सूचना भारत को कोरोना वायरस की पहली जानकारी कब मिली इसपर जवाब देते हुए रोग नियंत्रण का राष्ट्रीय केंद्र ने बताया कि "11 जनवरी 2020 को भारत सरकार को कोरोना वायरस फैलने की जानकारी दी गई थी" वहीँ 30 जनवरी को केरल में पहला कोरोना वायरस से ग्रसित मरीज मिला था। कोरोना वायरस से जुड़े दास्तावेज भी आरटीआई में मांगे गए थे जिसपर रोग नियंत्रण का राष्ट्रीय केंद्र ने कहा कि उनके पास यह सूचना उपलब्ध नही है।

अब सवाल यह है कि 11 जनवरी को जानकारी मिलने के बाद भी भारत सरकार मार्च तक क्यों रुकी रही ? यदि पहले ही मिली जानकारी पर सरकार सख्ती से कदम उठाती तो शायद कोरोना पर काबू पाया जा सकता था।

Follow Us